Category: Feature

पुलिस के कार्यशैली से तंग होकर मांगी इच्छा मृत्यु

नीतीश कुमार लाख पुलिस को फ्रेंडली रेलिशन बनाने को कह ले लेकिन कटिहार मे ऐसा कही से दिख नही राहा है (more…)
Share this page
shilpi gargmukh katihar

कटिहार की शिल्पी गर्गमुख प्रादेशिक सेना की पहली महिला अफसर

कटिहार की अफसर बिटिया : कटिहार की अधिवक्ता की सुपुत्री शिल्पी गर्गमुख ने प्रादेशिक सेना ( टेरीटोरियल आर्मी) की पहली महिला अफसर बनने का गौरव हांसिल किया है| शिल्पी को 9 अक्टूबर को राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी द्वारा सम्मानित किया जायेगा|फ़िलहाल शिल्पी ongc अंकलेश्वर में कार्यरत है| कटिहार के जवाहर नवोदय विद्यालय की २००६ की दसवी परीक्षा की topper रह चुकी हैं शिल्पी|डीपीएस बोकारो से बारहवी की परीक्षा उत्तीर्ण करके उन्होंने ने BIT सिंदरी से केमिकल्स इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री प्राप्त की| [caption id="attachment_3107" align="aligncenter" width="300"]shilpi gargmukh katihar shilpi gargmukh katihar [/caption] अपने मातापिता वाई एन तिवारी एवं रेनू तिवारी के साथ साथ इन्होने पूरे कटिहार का नाम रोशन किया है| शिल्पी के भाई सौरभ आनंद २००८ में सेना में चयनित होकर राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त कर चुके हैं|
Share this page
Dhruv Kundu Shahid diwas 13 august 1942

ध्रुव कुंडू और कटिहार शहीद दिवस १३ अगस्त

[caption id="attachment_2943" align="alignright" width="300"]Dhruv Kundu Shahid diwas 13 august 1942 Dhruv Kundu Shahid diwas 13 august 1942[/caption]शहीद चौक ,कटिहार,१३ अगस्त १९४२ आज से ठीक 74 साल पहले हमारे शहीद चौक पर दिल देहला देने वाली घटना घटी थी| तेरह साल का एक लड़का देश के लिए यहाँ शहीद हो गया|सीने पे गोली खायी एक जांबाज़ सिपाही की तरह| ठीक वही जहाँ आज महात्मा गाँधी की मूर्ती लगी हुई है| 13 अगस्त को ध्रुव कुंडू नाम के १३ साल के लड़के के अलावा ५००० और लोग मौजूद थे देश के लिए|रामाशीष सिंह, रामाधार सिंह, बिहारी साह, भूसी साह, कलाकंद मंडल, दामोदर साह, फूलो मोदी, नटाय परिहार, रमचू यादव, लालजी मंडल, झगरु मंडल तथा झगरु मंडल झौआ भी शामिल थे उस भीड़ में भारत माता की आज़ादी का ज़ज्बा दिलो में लिए| 9 अगस्त १९४२ को महात्मा गांधी ने अंग्रेजो भारत छोडो का नारा दिया| देश में लहर दौड़ गयी थी आज़ादी के मतवालों के दिलो में|उन्ही लोगो में एक १३ साल का लड़का भी था| अंग्रेजो ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी| ध्रुव कुंडू और बंकि लोगो को लगी गोलियां|कालीबाड़ी तक लाने की कोशिश की गयी|लेकिन उसके पहले होई ध्रुव दम तोड़ चूका था|
Share this page
Skip to toolbar