Katihar Feature |कटिहार के गुलाम रसूल,62,का मिटटी से बिजली बनाने का जज़्बा

कटिहार के राम पाड़ा के गुलाम रसूल ने घर मे छोटे छोटे बेकार पड़े सामानो को जोड़ और जमा कर सोलर और बिजली से जलने वाली एक लैम्प तैयार किया है वो भी कम से कम लागत से |62 वर्षीय गुलाम रसूल ने मात्र दो दिनों में अपनी मेह्नत से इस लैम्प को तैयार किया है जिसमे उन्होंने एक आम आदमी के इस्तेमाल में आने वाले सभी चीजो को एक लैम्प में जोडकर लोगो को सुविधा देने की कोशिश की है|
आपको बता दें की 62 वर्षीय गुलाम रसूल ने इस लैम्प में इमर्जेन्सी ,लैम्प ,घण्टी वाली घडी ,मोबाइल ,पंखा ,मैजिक लाइट ,मोबाइल चार्जर ,रेडिओ ,मेमोरी सिस्टम को जोड़कर कर लैम्प तैयार किया है जिसमे लोग रौशनी के साथ साथ गाने का भी मनोरंजन कर सकेंगे |इसे सोलर और बिजली से चार्ज किया जा सकता है।
कटिहार के गुलाम रसूल दिल्ली से इलेक्ट्रॉनिक्स की डिग्री लिए हुए हैं जिन्होंने सबसे पहले सोलर साईकल 2004 बनाकर कटिहार के लोगो को चौका दिया था |उस सोलर साईकल को बनाने के बाद भारत सरकार द्वारा आयोजित वैज्ञानिको के सेमीनार में हिस्सा ले चुके हैं जिसके मुख्या अथिति पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय अबुल कलाम आज़ाद थे,जिनके द्वारा उन्हें पुरष्कृत भी किया गया है |उसके बाद 2013 में पटना में आयोजित राष्ट्रीय स्तर के सेमीनार में भी वो हिस्सा ले चुके हैं | गुलाम रसूल कहते हैं की उनके सरकार की मदद मिले तो वो बिहार से बिजली की समस्या को दूर कर सकते हैं |और मिटटी से बिजली पैदा करने का दावा भी करते हैं
Share this page