Katihar|आखिर हो गयी कटिहार के अनोखे फेकू की अनोखी शादी |

कटिहार में एक अनोखी शादी देखने को मिली,इस शादी में दूल्हे का किसी से कोई रिश्ता नही था फिर भी सभी लोग रिस्तेदार की तरह जश्न मनाते और जमकर नाचते नजर आये |वो भी नाचने वाले कोई आम आदमी नही थे बल्कि कटिहार सदर अस्पताल के सभी अस्पताल कर्मी और स्टाफ थे डीजे की धूम पर ये नाचते गाते सदर अस्पताल के स्टाफ हैं,जो इस दूल्हा और दुल्हन के कोई सगे रिस्तेदार भी नही हैं,फिर भी रिस्तेदार की तरह मौज मस्ती करते नजर आ रहे हैं |[caption id="attachment_1111" align="alignright" width="300"]Feku 's marriage Feku 's marriage [/caption]
या यूँ कहा जाए की दूल्हे से अस्पताल कर्मियोंं के दिल का रिस्ता कहा जाए तो काम नही होगा |अब आप सोच रहे होंगे की आखिर वो दिल का रिश्ता किया है फूलो का सेहरा पहने दूल्हा बना फेकू है जिसे 20 साल पहले किसी अनजान ने कटिहार के सदर अस्पताल की चबूतरे पर बेसहारा बेजुबान मासूम को छोर दिया |वो कहते हैं ना _जिसका कोई नही होता उसका खुदा होता है ,उसी तरह कटिहार सदर अस्पताल के स्टाफ रमेश महतो उर्फ़ फागो ने इस बेजुबान को अस्पताल के चबूतरे से उठाकर अपने सीने से लगा लिया और सभी अस्पताल कर्मी स्टाफ नर्श इस बेजुबान मासूम का सहारा बनकर खड़े हो गए |
अस्पताल के सभी लोगो ने इसे अपनाकर पालने की जिम्मेदारी उठा ली फेका हुवा बच्चा मिलने के कारन इसका नाम सभी ने फेकू रख दिया और इसी फेकू की सारी जिम्मेदारी अब उनकी हो चुकी थी और अब वो बड़ा हो गया ,और उसकी शादी है और ऐसे दिल के रिश्ते को निभाने वाले की ख़ुशी में चार चाँद तो लगना है ही.ऐसे में माँ सरस्वती देबी जो रमेश महतो की पत्नी है जिसने इसे माँ की तरह पालन पोषण किया वो कहती हैं वो इस फेकू को अपने सगे बेटे बेटियों की तरह ही देख भाल की हैं और आज उसकी शादी है इससे बड़ी ख़ुशी उसके लिए और किया होगी। इस शादी को देखकर यूँ कहा जा सकता है की आज के समाज में जहाँ कोई किसी को अपनाना नही चाहता ऐसे में इतने साल तक पुरे अस्पताल ने दिल के रिश्ते निभाए और निभाते रहने की बात कह रहे हैं वाकई किसी बड़े उदाहरण से काम नही ,और समाज में एक दूसरे को प्यार का पैगाम भी दे रहा है।
Share this page