Tagged: Flood

Katihar breaking news

कुर्सेला :बाढ़ पीडितो ने बनाया बीडीओ और सीओ की बंधक

शुक्रवार को कुर्सेला में राहत शिविर की बदइंतजामी को लेकर बाढ पीड़ितों ने प्रखंड कार्यालय पहुँच कर बीडीओ व सीओ का घेराव किया। राहत शिविर में भोजन के लिए दिये गये चावल मे पिल्लू मिलने से लोग गुस्से में थे| बाढ़ पीड़ितों के लिए मुहैेया कराये गये बर्तन व कपड़ों में कथित हेराफेरी के खिलाफ भी ये कदम उठाया गया|
Share this page
Katihar Samachar

फलका: पोठिया में बाढ़ में डूब कर युवक और बच्चे की मौत

बाढ़ के पानी में डूबकर युवक और बच्चे की हुई मौत | बाढ़ की पानी से बाहर निकल रहे थे दोनों | पोठिया थाना क्षेत्र के मलोहरिया और छोहार गाँव में हुआ हादसा
Share this page
nitish in kusela ,manihari katihar

मुख्यमंत्री नै किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो का दौरा

मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने कटिहार के कुर्सेला, बरारी .मनिहारी और अमदाबाद का दौरा किया|मुख्यमंत्री ने वहां राहत शिविरो का निरीक्षण भी किया| बाढ़ प्रभावित लोगो के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार बाढ़ का स्थायी समाधान को लेकर कृतसंकलपित है |
Share this page

एक तो बाढ़ ,ऊपर से लापरवाही

कटिहार जिले के कई प्रखंड मे भीसन बाढ़ तवाही मचा रखा है बाढ़ से जन जीवन आस्त ब्यस्त हो गया है कोसी और महानंदा नदिया बिकराल रूप धारण कर तवाही मचाई हुयी है लोगो को अपने आशियाने को छोड़ कर सडको पर रात गुजारनी पड़ती है और उपर से लगातार वारिस ने लोगो की परेशानी दोगुनी हो जारही है मानो जिंदिगी ठहर सी गयी है वही महानंदा और कोसी के बिकराल रूप के सामने जिंदगी जीने के लिए रोज संघर्स करना पड़ता है छोटे छोटे बच्चे केले के नाव और ट्राम के बने नाव से नदी के पानी से निकल कर घर का सामान खरीदने के लिए के लिए बहार आते है प्रशासन की लापरवाही सरे आम देखि जा सकती है क्यों की जिस नाव पर ग्रामिण और बच्चे घर से बहार निकते है वो कभी भी दुर्घटना का शिकार हो सकते है |
Share this page
Flood in katihar कटिहार में बाढ़ की स्तिथि

मुख्यमंत्री बाँध की कटाई पर बिगड़े

मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने क्षेत्र में बाढ़ की स्तिथि का कल हवाई जायजा लिया| हालाँकि मुख्मंती नितीश कुमार ने पूर्णिया के सर्वेक्षण किया,पर उन्होंने कटिहार की स्तिथि की जानकारी भी अधिकारीयों से ली| महानंदा के कचौरा तटबंध को कटे जाने की घटना पर उन्होंने नाराज़गी जताई| उन्होंने कहा की अगर दवाब की जानकारी थी तो पहले से अलर्ट कर के एक्शन क्यों नहीं लिया गया|उन्होंने बढ़ से हुए ग्रीक क्षति एवं फसलो के नुकसान का सर्वे करवाने की बात की, जिससे नुकसान पीड़ित लोगो को उचित मुआवजा दिया जा सके| साथ ही मुख्मंत्री ने तटबंधो की सुरक्षा बडाये जाने के निर्देश भी दिए|
Share this page
Flood in katihar कटिहार में बाढ़ की स्तिथि

कटिहार के विभिन्न प्रखंडो में बाढ़ की स्तिथि चिंताजनक

कटिहार के कई प्रखंडो में बढ़ की स्तिथि चिंताजनक बनी हुई है|कई इलाको में पानी भरा हुआ है| खासकर कदवा ,बलरामपुर,बारसोई, मनसाही, प्राणपुर आजमनगर,अमदाबाद और बरारी में करीब पांच दर्जन से अधिक पंचायत बाढ़ से जलमग्न हैं| करीब पांच सौ से अधिक परिवार पर असर पड़ा है|डेढ़ सौ से ऊपर गाँव बढ़ की चपेट में हैं| स्तिथि से निपटने के लिए सेना मौके पर आ चुकी है|सरकार की तरफ से करीब 80 नाव की भी व्यवस्था की गयी है|। सूखे राशन की व्यवस्था की गयी है। है। इसके अलावा और भी जगहों पर स्तिथि बुरी है जहाँ सुविधाएं नहीं पहुँच प् रही है|
महानंदा नदी पर कल्याणी गाँव के समीप बांस से बना चचरी पुल जिसकी लंबाई लगभग 300-400 फीट है।लोग इसी पूल से आवागमन करने पर विवश है|भावनगर पंचायत की भी हालत ठीक नहीं है - (साभार Waziur Rahman)
वहीँ कटिहार के बलरामपुर विधानसभा क्षेत्र में गांजन पुल ,जिसका उद्घाटन मुख्यमंत्री जी ने खुद किया था| कटिहार ,बारसोई ,और उत्तर दिनाजपुर रायगंज को जोड़ने वाला ये पुल भी एक साल बाद तक किसी स्तिथि में नहीं पहुँच पाया है| लोग नाव से आवागमन करने को विवश हैं|
Share this page
मध्य विद्यालय झब्बुटोला और प्राथमिक बिद्यालय खट्टी टोला में

अमदाबाद में भी गंगा कटाव| एक और विद्यालय खतरे में

कटिहार (कुमार नीरज):लगातार हो रही बारिश से कटिहार में गंगा और कोशी और महानन्दा ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है...। गंगा के लगातार जलस्तर में हो रही लगातार बढ़ोतरी से अमदाबाद और बरारी में कटाव तेजी से जारी है...। पिछले साल भी जिला प्रशासन के लापरवाही से कई स्कूल गंगा गंगा मे बिलीन हो गयी थी इस बार भी कटिहार के मनिहारी और अमदाबाद में कटाव से मध्य विद्यालय झब्बुटोला और प्राथमिक बिद्यालय खट्टी टोला में बच्चों की पढाई बाधित है..। यहाँ गंगा चंद दुरी पर ही है और स्कूल किसी भी समय गंगा नदी में समां सकती है...। लगातार हो रही बारिश ने कटिहार में स्थिति को विकराल बना दिया है...। बच्चों की पढाई बाधित होने के साथ साथ किसानों के खेत गंगा नदी के निशाने पर है...। रोजाना सैकडों एकड जमीन गंगा में समाहित हो रहे है...। परेशान ग्रामीण अपने घर को समेटने में लगे है...और जान बचाकर विस्थापन के दंश को झेलने को विवश है...। घर के साथ साथ बच्चों के शिक्षा के मंदिर के गंगा में चले जाने की पीडा से परेशान है ग्रामीण...। _वहीं शिक्षा विभाग के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारियों की एक मीटिंग बुलाई गयी है ,और जो भी स्कूल सैलाब में डूब जाएंगे उसके लिए दूसरे स्कूलों में पढाई के इंतजाम की व्य्वस्था की जायेगी ,बच्चों की पढाई पर सैलाब को बाधा नहीं बनने दिया जाएगा...। मालूम हो कि पिछले वर्ष भी उत्कर्मित मध्य विद्यालय केवाला सैलाब में विलीन हो गया था...। वहीँ किसानों के कई एकड़ में लगी फसल तबाह हो गए हैं ,और कई मवेशी सैलाब में बह गए है ,सैलाब के पानी की रोक थाम के लिए कई अधिकारी मौके पर केम्प किये हुए हैं। कटिहार में लोग हरेक साल बाढ और कटाव को झेलते है...। कभी गंगा तो कभी कोशी और कभी महानन्दा नदी लोगों को बेघर करती है...और लोगो विस्थापित जीवन गुजारने को विवश होते है...। लेकिन आज तक कटाब और बाढ पर नियंत्रम के ठोस उपाय नहीं हो सके...जिसके लिए पहल करने की जरुरत है..।




Share this page
Skip to toolbar