कटिहार के समेली में खसरा का मंडरा रहा खतरा

कटिहार के समेली प्रखण्ड के मलहरिया पंचायत के तीन गाँव में खसरा ने अपना पाँव पसार दिया है जिससे पुरे गाँव में दहशत का माहोल है ,इस गाँव में नजदीकी स्वास्थ केन्द्र में इसके इलाज के लिए दवाई मयस्सर नही है है ,लोग झार फुक का सहारा ले रहे हैं वहीँ कटिहार के सिविल सर्जन ने मामले को गम्भीरता से लेते हुए जल्द दवाई उपलब्ध कराने की बात कही है एक रिपोर्ट। ये तस्वीर कटिहार के समेली प्रखंड के मलहरिया पंचायत के बखरी गाँव ,नयाटोला ,बालू टोला की है जो इलाका इन दिनों खसरा की चपेट में है और लोग इस बीमारी से दहत में हैं ,इन तीनो गाँव में लगभग 400 से अधिक लोग खसरा से पीड़ित है और लोगो के बीच इस बीमारी को लेकर दहसत का माहोल है ,पीड़ित इलाज के लिए अस्पतालों के भी चक्कर लगा रहे हैं ताकि बेहतर इलाज हो सके लेकिन अस्पताल में इस रोग ने निपटने के लिए कोई दवाई उपलब्ध नही है जिससे लोगो में मायूसी है और झारफुक के सहारे इस रोग पर काबू पाने की जद्दोजहद कर रहे हैं। [caption id="attachment_1620" align="alignright" width="300"]khasra Sameli Katihar khasra Sameli Katihar[/caption] वहीँ गाँव के पीड़ित महिला कहती है की इसकी जानकारी स्वास्थ विभाग को भी दी गयी की गाँव में बड़े,बूढ़े और बच्चे इस बीमारी की चपेट में हैं लेकिन एक माह गुजर जाने के बाद भी अब तक स्वास्थ विभाग से ना कोई टीम जांच के लिए आया और ना ही कोई डॉक्टर ही बेहतर इलाज के लिए देखने पहुंचा है ,जिससे सभी डरे हुए हैं ,और कैसे इस बीमारी से छुटकारा मिले इसके लिए तरह तरह के घरेलु उपचार का सहारा ले रहे हैं। इस गाँव में खसरा के प्रकोप की जानकारी जब मीडिया ने कटिहार के सदर अस्पताल के सिविल सर्जन को दिया तो उन्होंने कहा की दवाई उपलब्ध नही होने के वजह से थोड़ी दिक्ततें हो रही हैं ,इसकी सुचना वहां के प्रभारी को दी जा चुकी है जल्द ही इसपर काबू पा लिया जाएगा। महीनो बीत जाने के बाद भी स्वास्थ विभाग इस बीमारी की रोक थाम में कोई कदम नही उठाया जिस कारण आज पूरा गाँव खसरे की चपेट में है बच्चे ,बूढ़े ,महिलाएं इस बीमारी से ग्रषित हैं ऐसे में ये सवाल उठना लाजिमी है की आखिर स्वास्थ विभाग के दावे और सुशासन द्वारा इलाज के बेहतर दावे की असली हकीकत किया है ,ये तस्वीर साफ़ साफ़ जाहिर कर रहा है ,और लोग इस आधुनिक युग में मेडिकल साइंस की लापरवाही की वजह से झार फुक का सहारा ले रहे हैं
Share this page